Bird Flu क्या है ? इसके कारण, लक्षण एवं बचाव के उपाय


Bird Flu क्या है ? इसके कारण, लक्षण एवं बचाव के उपाय : दोस्तों ! अभी कोरोना वायरस से ठीक से उभर भी नहीं पाए है। और अब एक नया वायरस बर्ड फ्लू भी तेजी से फैलता नज़र आ रहा है। कोरोना वायरस की दहशत के बीच अब बर्ड फ्लू का संक्रमण भी हमारे लिए घातक साबित हो सकता है।

बर्ड फ्लू भी एक खतरनाक वायरस है। इसके बचाव के लिए केंद्र सरकार कुछ जरूरी कदम भी उठा रही है। आमजन में इस वायरस को लेकर डर के साथ कई सवाल भी उठ रहे है। आज हम इन सभी सवालों के जवाब लेकर आये है। तो आइए जानते है कि ये बर्ड फ्लू क्या है ? और इसके लक्षण कौनसे होते है तथा इससे आमजन का बचाव कैसे हो सकता है?


Bird Flu Virus क्या है | What is Bird Flu


दोस्तों ! बर्ड फ्लू एक वायरस जनित रोग है। जिसकी वजह H5N1 नामक वायरस है। इसे एवियन इन्फ्लूएंजा वायरस | Avian Influenza भी कहा जाता है। ये रोग पक्षियों एवं मुर्गियों में अधिक पाया जाता है। आपको बता दे कि ये रोग पक्षियों के साथ-साथ इंसानो में भी बड़ी तेजी से फ़ैल रहा है। इसलिए इसे हलके में ना ले। इस वायरस की चपेट में आने वाले इंसान पर मौत का खतरा भी बना रहता है।

कोरोना के चलते अब बर्ड फ्लू जैसे खतरनाक वायरस का आना शुभ संकेत नहीं है। हमारे लिए बर्ड फ्लू कोई नया नाम नहीं है। आज से पहले भी बर्ड फ्लू ने अपना आतंक मचाया है। और न जाने कितनो को ही तबाह कर चुका है।

बाल बच्चों की इम्युनिटी पहले से ही कमजोर होती है। और अब बर्ड फ्लू वायरस भी माता-पिता की चिंता बढ़ा रहा है। ऐसे में हम सभी की सूझ-बूझ ही इस वायरस को हरा सकती है। जैसे हमने कोरोना को मिलजुलकर हराया है। वैसे ही बर्ड फ्लू को भी धूल चटानी होगी। तो आइए आपको बताते है कि आखिर कैसे ये बर्ड फ्लू संक्रमण फैलता है ?


बर्ड फ्लू कैसे होता है | Causes of Bird Flu outbreak


दोस्तों ! बर्ड फ्लू एक ऐसा रोग है जो संक्रमण से फैलता है। जब भी कोई संक्रमित पक्षी किसी अन्य के समीप जाता है। तो उसके छींकने-खांसने से इसके वायरस अन्य पक्षी में चले जाते है। इसके अलावा संक्रमित जल के संपर्क में आने से भी इसके लक्षण दृष्टिगोचर होने लगते है।

बिलकुल इसी तरह इस रोग का संक्रमण पक्षियों से इंसानो में हो जाता है। जब भी कोई इंसान संक्रमित पक्षी या मुर्गियों के संपर्क में आता है। इसका वायरस उस इंसान के शरीर में चला जाता है। फिर ऐसे इंसान से अन्य लोगों में भी इसका संक्रमण फैलता ही चला जाता है।


बर्ड फ्लू के लक्षण | Symptoms of Bird Flu


दोस्तों ! अब आपको पता चल गया होगा कि बर्ड फ्लू क्या है ? और ये कैसे फैलता है ? चलिए अब इसके लक्षणों पर नज़र डालते है :

  • तेज़ बुखार आना
  • गले मे खराश होना
  • खाँसी- जुकाम होना
  • नाक बहना
  • मांसपेशियों मे दर्द होना
  • सिरदर्द होना
  • नेत्र शोथ या आँख आना आदि।

उपरोक्त सभी लक्षण बर्ड फ्लू के होने का सबूत देते है। अगर आपको इनमें से कोई भी लक्षण दिखाई दे तो आपको तुरंत डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए तथा कुछ सावधानियां भी बरतनी चाहिए। बर्ड फ्लू से बचने के लिए ये सावधानियां क्या हो सकती है। आइए इनपर नज़र डालते है :


बर्ड फ्लू से बचाव के उपाय | How to rescue of Bird Flu


दोस्तों! किसी भी बीमारी से बचने के लिए सावधानी ही सबसे अच्छा बचाव है। फिर भी संक्रमण हो जाये तो आप निम्न उपाय ध्यान में रखे :

  • संक्रमित पक्षियों से दूर रहे।
  • मृत पक्षियों से भी उचित दूरी बनाये रखे।
  • पक्षियों को भी अपने खुले हाथों से न पकडे।
  • पालतू पक्षियों के पिंजरे के भी करीब ना जाये।
  • संक्रमित पक्षियों का मांस खाने से बचे।
  • ऐसे स्थानों पर जाने से बचे जहाँ संक्रमित मुर्गियों हो।
  • पोल्ट्री मुर्गी फार्म पर काम करने से बचे या
  • फिर मुर्गी फार्म पर काम के दौरान मास्क एवं दस्तानों का प्रयोग अवश्य करे।
  • नियमित रूप से हाथ भी धोये।
  • खांसते या छिंकते समय मुँह पर रूमाल या मास्क अवश्य रखे।
  • अपने आस-पास साफ-सफाई बनाये रखे।
  • अपने इम्युनिटी सिस्टम को भी बढ़ाये।

— इन सभी बातों का ख्याल रखते हुए आप काफी हद तक बर्ड फ्लू से सुरक्षित रह सकते है।


बर्ड फ़्लू का इलाज | How to treat Bird Flu


दोस्तों ! सावधानी अपनी जगह है। अगर फिर भी आप बर्ड फ्लू की चपेट में आ जाते है तो आपको इसके ईलाज के लिए निम्न कदम उठाने चाहिए :

  • कच्चे पपीते या इसके पत्तों के रस का सेवन करे।
  • तुलसी एवं पोदीने के पत्तों का रस पिये।
  • अदरक, काली मिर्च, हरी मिर्च, प्याज और लहसुन से बना सूप पिये।
  • आंवला में यष्टिमधु और काली मिर्च मिला कर सेवन करना भी लाभप्रद है।

गंभीर स्थिति होने पर आप तुरंत डॉक्टर से संपर्क करे। तथा बर्ड फ्लू के टीके लगवाये एवं अन्य जरूरी उपचार भी कराये। ध्यान रहे आपकी जरा सी लापरवाही खतरनाक साबित हो सकती है। और आपकी थोड़ी सी समझदारी किसी की जान बचा सकती है।

सतर्क रहिये :

दोस्तों ! एक बार फिर हमें सतर्क रहने की जरूरत है। आये दिन कोई ना कोई गंभीर बीमारी दस्तक देती ही रहती है। ऐसे में हमारी सूझ-बूझ और समझदारी ही हमारी रक्षा कर सकती है। अपना और अपने परिवार का ख्याल रखिये और इस रोग के बारे में आमजन में भी जागरूकता फैलाये।


ये भी जरूर पढ़े :


जनहित में एक निवेदन :

दोस्तों ! आज हमने “Bird Flu क्या है ? इसके कारण, लक्षण एवं बचाव के उपाय” के बारे में विस्तार से जाना तथा इसके लक्षण एवं बचाव के उपाय भी समझे। उम्मीद है कि इस लेख को पढ़ने के बाद आप बर्ड फ्लू वायरस से महफूज़ रह पाएंगे।

आपसे ये ही कहना है कि आप अपने साथ-साथ अपनों का भी ध्यान रखिये। इस जानकारी को अपने यार-दोस्तों, रिश्तेदारों और परिवारजनों तक भी अवश्य पहुँचाये। आखिर वो भी तो अपने है। उनकी स्वास्थ्य कामना भी हमारा फ़र्ज़ है।

तो जल्दी कीजिये और अभी इस जरूरी Information को अपनों तक शेयर कर दीजिये। ईश्वर आप सभी को स्वस्थ और सुरक्षित रखे। इसी कामना के साथ, आपका धन्यवाद !


Leave a Comment

error: Content is protected !!